CONTENT

ख्व़ाब
काश एक रोज़ तेरा दुपट्टा मेरी घड़ी से टकराता
तेरे आंचल का  कोना मेरी घड़ी से बंध जाता

होती इतनी हड़बड़ाहट की वो सुलझने से ज्यादा उलझ जाता
काश एक रोज़ तेरा दुपट्टा मेरी घड़ी से टकराता

लगे होते हम दोनों इस उलझन को सुलझाने में 
करते कोशिश बार बार इस गुत्थी से निकल पाने में

आखिरकार! आखिरकार हमारी एक कोशिश जो काम आती
मेरी दी हुई घड़ी तुझे हर वक़्त मेरी याद दिलाती

काश एक रोज़ तेरा दुपट्टा मेरी घड़ी से टकराता

Sign up to write amazing content

OR